Tuesday, November 18, 2008

कौन हूँ मैं ???

महफिल को रंग मैं आने मे जरा वक्त लगेगा, रूठों को मानाने मैं जरा वक्त लगेगा,
चेहरे पे मेरे -गम- ने बना रक्खी हैं लकीरें, "कौन हूँ मैं"- ये बताने में जरा वक्त लगेगा।

2 comments:

swapnila said...

HAI HAQIQUAT JO USE AAINA DIKHANE KI JAROORAT NAHI....AAP KAUN HAI YE SAWAL PUCHNE KI JAROORAT NAHI............!

Anonymous said...

wow,,,,,